Donate to IndiaSpend

इंडियास्पेंड की पुरस्कृत-खोजी पत्रकारिता का समर्थन करें।

इंडियास्पेंड को आपकी ओर से दिए गए अनुदान से आपको टैक्स में राहत तो होगी ही, आपके योगदान से हमें, और देश भर के अन्य प्रकाशनों में मदद मिलेगी। हम उन महत्वपूर्ण रिपोर्ट्स को प्रकाशित करेंगे , जो आमतौर पर सामने नहीं आती हैं – ये वे रिपोर्ट्स हैं, जिनसे फर्क पड़ता है!

अनुदान

Latest Stories

जलवायु परिवर्तन से लड़ने के लिए तटीय ओडिशा में महिलाओं ने उठाए नए कदम

( ओडिशा के बाढ़ग्रस्त तटीय जिले भद्रक में, 11 ग्राम पंचायतों में महिलाओं ने बाढ़ या सूखे जैसी आपदा के बाद उन समस्याओं से लड़ने के लिए समूह का गठन किया है, जो जलवायु परिवर्तन के कारण लगातार और तीव्र होते जा रहे हैं। )    भद्रक, ओडिशा: दयानमंती बिस्वाल झोपड़ी मिट्टी की है और … Continued

शुरुआत में ही नया एंटी-पॉल्यूशन प्लान लुढ़का, मूल्यांकन किए गए 74 भारतीय शहरों में केवल पटियाला में स्वच्छ हवा

  नई दिल्ली: वायु प्रदूषण नियंत्रण के लिए एक राष्ट्रीय कार्यक्रम शुरू करने के लगभग एक महीने बाद, देश भर के शहरों ( दुनिया के सबसे प्रदूषित शहरों में से 14 ) में साल 2018-19 की सर्दियों के दौरान जहरीली हवा में सांस लेना जारी रहा है।   ‘सेंट्रल पॉल्युशन कंट्रोल बोर्ड’ ( सीपीसीबी ) … Continued

देश के लिए स्वच्छ हवा और यहां कोयले की आदत को कम करने के लिए क्या कर सकता है 2019 का बजट ?

  नई दिल्ली: नवीकरणीय उर्जा के विस्तार के लिए दुनिया के सबसे बड़े कार्यक्रमों में से एक भारत के पास है- अगले चार वर्षों में क्षमता को दोगुना करना- लेकिन 175 कोयले से चलने वाले प्लांट के समकक्ष बदलने के लिए भारत का 2022 का महत्वपूर्ण लक्ष्य ट्रैक से मुड़ रहा है।   01 फरवरी, … Continued

दिल्ली की वायु गुणवत्ता खतरनाक, सर्दियों में सरकार की इमरजेंसी योजना विफल

  नई दिल्ली: 1 नवंबर, 2018 से 6 जनवरी, 2019 तक लगभग हर हफ्ते दिल्ली में वायु प्रदूषण के विषाक्त स्तर की निगरानी की गई, जिससे पता चला कि महानगर में प्रदूषण के वार्षिक संकट से निपटने के लिए सरकार की इमरजेंसी योजनाएं विफल हो गई हैं। यह जानकारी शहर के निवासी कल्याण संघों (आरडब्ल्यूए) … Continued

बेंगलुरु के कन्नड़-माध्यम स्कूल में बंगाली भाषी छात्रों की जुबानी, ओझल होते द्वीपों से जलवायु-परिवर्तन शरणार्थियों की कहानी

  बेंगलुरु (कर्नाटक) और मौसुनी (पश्चिम बंगाल): दो साल पहले, जब 43 वर्षीय थियेटर निर्देशक निमी रवींद्रन को एक पब्लिक स्कूल में छात्रों को नाटक सिखाने के लिए अनुदान मिला था तो उन्हें लगा था कि उन बच्चों से संवाद के लिए स्थानीय भाषा कन्नड़ होगी। लेकिन उन्होंने पाया कि बेंगलुरु के मारथाहल्ली इलाके में … Continued